Dismiss Notice
Welcome to IDF- Indian Defence Forum , register for free to join this friendly community of defence enthusiastic from around the world. Make your opinion heard and appreciated.

Doklam Plateau - India, Bhutan and China Stand-Off

Discussion in 'Defence Analysis' started by Bloom 17, Jul 3, 2017.

  1. Hellfire

    Hellfire Devil's Advocate THINKER

    Joined:
    Apr 16, 2017
    Messages:
    2,085
    Likes Received:
    4,904
    Country Flag:
    India
    enquencher and vstol jockey like this.
  2. lca-fan

    lca-fan Major SENIOR MEMBER

    Joined:
    Sep 9, 2015
    Messages:
    2,388
    Likes Received:
    4,777
    Country Flag:
    India
    Despite Tension, Army Hasn't Deployed Artillery Guns Near Doklam
    August 10, 2017
    By: NDTV

    Source Link: CLICK HERE
    [​IMG]

    Indian artillery guns have not been shifted to their emplacements near the site of the standoff between Indian and Chinese troops in the disputed Doklam Plateau, a part of Bhutan, which is located East of Sikkim.

    According to sources, this is a clear indicator that a military escalation between the Chinese and Indian Army seems unlikely at the moment. Also, there are no signs of a significant Chinese military buildup in the region as both New Delhi and Beijing look to find a peaceful solution to the situation in Doklam, potentially the gravest crisis between the two countries since the 1962 war.

    Sources have described the present standoff as being a "no war, no peace" situation and are keen to assert that the Indian Army has not rushed its Brigades to forward locations in support of Indian soldiers in the Doklam plateau.

    These troops were moved into the area to prevent Chinese road construction in June in an area very close to the "Chicken's Neck", the vulnerable sliver of land that connects the Northeast with the rest of India.

    Two Brigades, each with 4,000 men who are deployed close to the disputed area were not shifted there after the Doklam crisis began but were positioned as part of regular training exercises that sees the Indian army regularly move large formations in what has been a heavily militarised area for decades. The only extraordinary Indian movement in the area involves maintaining and replacing the 300 odd Indian soldiers deployed in the Doklam plateau.


    Despite China making it clear that the Indian Army needs to withdraw first from the Doklam plateau for meaningful dialogue to take place, the Army is waiting to see whether Chinese Army officers and soldiers will travel to five designated Border Personnel Meeting Points on Independence Day on August 15 to greet their Indian counterparts, a tradition between the two forces. Nathu La in Sikkim is the closest such point to the stand-off area between the Indian and Chinese Armies.

    New Delhi wants to discuss the stand-off diplomatically but China has demanded the Indian Army needs to withdraw first from the Doklam plateau for any meaningful dialogue to take place. In recent days, Chinese officials have again upped the ante.

    After the Chinese People's Liberation Army last week cautioned that restraint has "its bottom line", a foreign ministry official in Beijing followed up the warning. What would New Delhi do, a top diplomat in Beijing said on Tuesday, if China "enters" Kalapani region in Uttarakhand or Kashmir.

    In Parliament, Defence Minister Arun Jaitley underscored that the armed forces are strong enough to meet any challenge to the country's security and underlined that lessons have been learnt from the 1962 war with China.
    http://www.defencenews.in/article/D...nt-Deployed-Artillery-Guns-Near-Doklam-283613
     
    Hellfire likes this.
  3. Vyom

    Vyom Captain IDF NewBie

    Joined:
    Aug 9, 2013
    Messages:
    1,932
    Likes Received:
    1,858
    Seems like some are misinformed. No one should give any details of deployment.
     
    Hellfire likes this.
  4. Hellfire

    Hellfire Devil's Advocate THINKER

    Joined:
    Apr 16, 2017
    Messages:
    2,085
    Likes Received:
    4,904
    Country Flag:
    India

    They have not deployed anything. Everything is, in routine, in-situ. Actual deployment will just take a few minutes.
     
  5. Sweet-detention

    Sweet-detention FULL MEMBER

    Joined:
    May 14, 2017
    Messages:
    80
    Likes Received:
    59
    Country Flag:
    India
    Thanks for your valuable suggestions but no thanks, neither I have got any kind of training on Indo-China border dispute nor I need one. I Don't either need to get my facts correct because none of my facts are wrong. And about the comment I made for you yesterday, I had deleted just because I felt I shouldn't pass any kind of judgemental remarks on you. Hope I am clear and thanks for giving so much 'undue attention' to my 'deleted comment'.
     
  6. Vyom

    Vyom Captain IDF NewBie

    Joined:
    Aug 9, 2013
    Messages:
    1,932
    Likes Received:
    1,858
    I agree and know, those arty guns are always there where they are supposed to be they have been there for quite some time, Trishakti corps as on date is mobilized (if not 'fully deployed' as per some members imagination)
     
    Hellfire likes this.
  7. A_poster

    A_poster Captain FULL MEMBER

    Joined:
    Nov 8, 2016
    Messages:
    1,077
    Likes Received:
    1,591
    Country Flag:
    India

    By tube artillery, I meant artillery that fires shells from artillery guns. These shells have unpowered flight with motive force coming from initial impulse. MLRS are propelled rockets.

    Artillery shells have a much smaller length to diameter ratio than a rocket. This means that when fired at an steep angle, they would not get destabilized easily; while long rod shaped rockets, when fired at a very steep angle would destabilized due to higher torque requirement for aligning its nose in the direction of target and air friction. This means that at its apogee, rather than falling head first onto a target, a rocket would remain in same alignment with which it started its ascent and fall to ground tail first (probably spinning uncontrollably). This would mean that the maximum angle at which a rocker could be fired would be much less than an artillery shell, and thus having less chance of hitting a reverse slope position.

    GPS guidance does not mean that a rocket could dance in air. A GPS guided rocket act like a normal rocket and could only make minor adjustments to its trajectory.
     
    Art90, Hellfire and vstol jockey like this.
  8. vstol jockey

    vstol jockey Colonel MILITARY STRATEGIST

    Joined:
    Mar 15, 2011
    Messages:
    13,790
    Likes Received:
    15,448
    Country Flag:
    India
    Yes, compared to a shell, a rocket behaves more like an aerodynamic body which has problems of controllability dues to high alpha. They need to be stabilised in flight either thru control surfaces or by thrust vectoring.
     
    A_poster likes this.
  9. Hellfire

    Hellfire Devil's Advocate THINKER

    Joined:
    Apr 16, 2017
    Messages:
    2,085
    Likes Received:
    4,904
    Country Flag:
    India

    Good.

    Now let me clarify what Tube Artillery means - it denotes anything having a barrel. Even Rocket Systems are taken into account as tube artillery. If you really want to differentiate use either howitzer/gun. Just a point to note.

    Additionally, Krasnopol? Excalibur? And GPS guided munitions of MRLS? All hit reverse slope if data is input.
     
  10. InfoWarrior

    InfoWarrior Lieutenant FULL MEMBER

    Joined:
    Apr 8, 2017
    Messages:
    873
    Likes Received:
    708
    Country Flag:
    India
    Good analysis about tackling China
     
  11. lca-fan

    lca-fan Major SENIOR MEMBER

    Joined:
    Sep 9, 2015
    Messages:
    2,388
    Likes Received:
    4,777
    Country Flag:
    India
    डोकलाम से ग्राउंड रिपोर्ट-1: सीमा पर पहली पांत में तैनात हैं 6 फुट लंबे जाट सैनिक

    [​IMG]
    Image Source: फ़र्स्टपोस्ट

    [​IMG][​IMG][​IMG][​IMG]
    News18Hindi
    Updated: August 10, 2017, 12:03 PM IST
    (संपादकीय नोट: भारत और चीन के बीच कायम तनातनी की घट-बढ़ के बीच डोकलाम के जमीनी हालात के बारे में तीन रिपोर्टों की सीरिज की यह पहली कड़ी है.)

    भारत और चीन के बीच सिक्किम में चल रहे सीमा-विवाद के बीच डोकलाम ट्राई जंक्शन (तिमुहाने) पर हालात संगीन बने हुए हैं. नीचे पढ़ें सीमा पर किस तरह है भारतीय मोर्चेबंदी

    नई दिल्ली और बीजिंग के बीच एक दूसरे को दिमागी खेल में मात देने की कोशिशों के बीच बर्फीले डोकलाम में एक अलग ही तरह का मुकाबला दरपेश है जहां भारत के 250 सैनिक चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के सामने डटे हुए हैं.

    [​IMG]बीते 2 अगस्त को चीन ने एक फैक्टशीट जारी की. इसमें दावा किया गया कि भारत ने डोकलाम में अपने सैनिकों की तादाद 400 से घटाकर 40 कर दी है.


    भारत ने एकबारगी इसका जवाब दिया. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सैनिकों की तादाद में कमी से इनकार किया और मंत्रालय ने उनकी बात का समर्थन किया.

    क्या है चीनी दावे की हकीकत?
    फ़र्स्टपोस्ट को हासिल सूचना के मुताबिक डोकलाम में जुझारु तेवर वाले जाट रेजिमेंट के 250 सैनिक दो स्तरों पर तैनात किए गए हैं. करगिल की जंग में कमाल दिखाने वाली बोफोर्स गन सहित तोपों की एक तीसरी पांत भी डोकलाम में तैनात है जो दुश्मन के परखच्चे उड़ाने का माद्दा रखती है.

    भारत और चीन के बीच एक करार है. इस करार के मुताबिक वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों को समान संख्या में सैनिक तैनात करने होते हैं. इस कारण सैनिकों की तैनाती की संख्या दोनों तरफ से बराबर ही है.


    चीन के रक्षा मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने 24 जुलाई को बड़बोलापन दिखाते हुए कहा कि 'पहाड़ को हिलाना आसान है लेकिन पीपुल्स लिबरेशन आर्मी को नहीं.'

    शायद चीनी रक्षा मंत्रालय को ब्रिटिश पत्रकार एडमंड कैंडलर की लिखी हुई बात याद आ गई होगी. कैंडलर ने अपनी किताब 'द सिपॉय' में जाट रेजिमेंट के सैनिकों के बारे में लिखा है,
    [​IMG]'जिस जगह पर इन जंग-जुझारु जवानों को तैनात कर दिया जाता है वहां से इन्हें तभी डिगाया जा सकता है जब भूकंप आ जाए या कोई ज्वालामुखी फूट पड़े.'


    जाट रेजिमेंट के जवानों को अभी डोकलाम की सरजमीं पर तैनात किया गया है और सारे अनुमान यही संकेत करते हैं कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के लिए अपनी सरजमीं पर डट कर खड़े इन लंबे-तगड़े जवानों को डिगाना बहुत मुश्किल साबित होगा. यह संभावना इसलिए भी बनती है क्योंकि डोकलाम का इलाका अपनी बनावट में भारतीय फौज के अनुकूल है, हिंदुस्तानी फौज को पहाड़ी इलाकों की जंग में महारत हासिल है.

    [​IMG]
    Image Source: फ़र्स्टपोस्ट



    मंदारिन जानते हैं तैनात भारतीय जवान
    हिंदुस्तानी फौज की पहली पांत में छह फुट लंबे जाट सैनिक तैनात किए गए हैं. इन सबके पास कैमरा है. पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के छोटे सैनिकों को अपनी गर्दन खूब ऊंची ताननी होगी तब जाकर ये सैनिक उन्हें नजर आएंगे. इन सैनिकों को आदेश है कि दुश्मन पर निगाह जमाए रखिए और उनकी गतिविधियों की टोह लेते रहिए. पहली पांत के जवानों में से कुछ को मंदारिन (चीनी) भाषा आती है. साथ ही आसपास की हर आहट की खोज-खबर रखने के लिए इन सैनिकों के कान एकदम सतर्क हैं.

    अगर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी हमले की कोई हरकत करती है तो हिंदुस्तानी फौज की पहली पांत उसके निशाने पर होगी, ये सैनिक उनसे जूझ पड़ेंगे लेकिन पूरी उम्मीद बांधी जा सकती है कि हमले की खबर वे पिछली पांत के अपने साथी सैनिकों को पहुंचा देंगे जो कि जंगी साजो-सामान के साथ मौके पर आगे बढ़ने के इशारे के इंतजार में खड़े हैं.


    दूसरी पांत के सैनिकों को चेतावनी दी गई है कि मुस्तैदी में जरा भी ढील नहीं आनी चाहिए और दुश्मन के खेमे से जैसे ही हमले का कोई संकेत मिले, सारे हथियारों के साथ एकबारगी उस पर टूट पड़ना है.

    डोकलाम में धीरज ही कामयाबी का मूलमंत्र है. यहां जो छवि आपके मन में सबसे पहले कौंधती है वह घात लगाकर छुपे बैठे ड्रैगन और पूरे चौकन्नेपन के साथ दम साधकर खड़े बाघ की है.

    पानी का घूंट भरना हो, भोजन का निवाला मुंह में रखना हो या फिर चंद घड़ी की झपकी लेनी हो- यहां अपने शिविर में सैनिक सबकुछ बहुत जल्दी-जल्दी करते हैं. इन्हें नींद जब आ जाए उसका उसी दम स्वागत है क्योंकि इससे तनी हुई नसों को कुछ देर का आराम मिलता है.

    ज्यादातर हिंदुस्तानी फौज ट्राइ जंक्शन से 10 किलोमीटर की दूरी पर काबिज है. एक पंजाबी सैनिक ने फ़र्स्टपोस्ट को बताया कि 'डोकलाम में हम लोग दुश्मन के बिल्कुल करीब हैं. उनके और हमारे बीच बस 250 मीटर का फासला है.'

    एक सैनिक ने कहा कि सीमा-विवाद के भड़कने पर सबसे पहले वहां ब्लैककैट प्लाटून की तैनाती हुई. इसके बाद नाथू ला के बेसकैंप से जाट रेजिमेंट की टुकड़ी बुलायी गई. वहां मौजूद एक और पत्रकार ने इस बात की पुष्टी की. उसने कहा कि मैं डोकलाम में भारतीय सैनिकों की तैनाती की जगह तक जा चुका हूं.

    भारतीय सेना की तैयारियों के बारे में इस पत्रकार ने लिखा है कि
    [​IMG]'नए बंकर बनाये गए हैं. चीनी सैनिकों के हमले को नाकाम करने के लिए जमीनी तैयारी की गई है. रणनीतिक अहमियत की जगहों पर मशीनगन का पूरा जाल बिछा दिया गया है और सैनिक दिन में दो बार जंगी कवायद (ड्रिल) कर रहे हैं.'


    चौकस हैं भारतीय फौजी
    शायद यही वजह रही होगी जो फ़र्स्टपोस्ट की टीम को नाथू ला में एक खास मुकाम के बाद आगे नहीं जाने दिया गया. डोकलाम को मीडिया की पहुंच से दूर रखा गया है क्योंकि चीन अपने राजकीय नियंत्रण वाले मीडिया के जरिए इस इलाके की खबरों को तोड़-मरोड़कर पेश करने के दूसरे रास्ते तलाश सकता है.

    जंगी तैयारी की असली जगह से कई किलोमीटर पहले रोक दिए जाने पर फ़र्स्टपोस्ट ने नाथू ला में सैनिकों से बात की. सैनिकों ने हमें बताया कि जाट रेजिमेंट से शांति बनाए रखने को कहा गया है. साथ ही पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की खुद को किसी लत्तर की तरह आगे बढ़ाते जाने की रणनीति के प्रति सतर्क रहने को कहा गया है.


    नई दिल्ली का मानना है कि बीजिंग दरअसल सभी देशों के साथ मनोवैज्ञानिक जंग की रीत अपनाता है और फिलहाल मनोवैज्ञानिक युद्ध लड़ने के ख्याल से ही वह अपने मुहावरों की पेशबंदी कर रहा है. लेकिन, नई दिल्ली का मानना है कि चीनी मुहावरों की एक नहीं चल रही है, भारत ने अपने जवाब से उन्हें भोथरा कर दिया है.

    नाथू ला में तैनात एक सैनिक का कहना था कि 'पीपुल्स लिबरेशन आर्मी डोकलाम में क्लास 4 रोड के विस्तार की कोशिशों से पहले ही तैयारी में जुटी हुई थी.' सैनिक ने यह भी बताया कि भारतीय फौज ने मेकशिफ्ट (बनाओ-हटाओ) किस्म के बंकर बनाए हैं लेकिन चीनी सेना के बनाए बंकर स्थायी किस्म के हैं. इस सैनिक का कहना था, 'लेकिन हम जवाबी हमले के लिए तैयार हैं. हमारी सप्लाई-लाइन बिना किसी बाधा के जारी है और तीन परतों वाला हमारा सुरक्षा घेरा अभेद्य है.'

    [​IMG]
    Image Source: फ़र्स्टपोस्ट



    सेना के एक अधिकारी ने फ़र्स्टपोस्ट को बताया कि सितंबर आने के बाद डोकलाम बर्फ से ढक जाएगा. उसने बताया कि
    [​IMG]'बंकर साफ कर दिए गए हैं. बड़ी संभावना है कि सितंबर से अक्तूबर के बीच मौसम यहां खूब सर्द रहे. हर बंकर में सात सैनिक रह सकते हैं.' अनुमान है कि नाथू ला में तकरीबन 1200 बंकर होंगे.


    खैर, इस दरम्यान चीन अपने मुहावरों को धार देने में लगा है. बीते 4 अगस्त को चीन का धीरज जवाब दे गया और उसने मांग कर दी कि डोकलाम से भारतीय सेना तुरंत वापस बुली ली जाए.

    ऐसा जान पड़ा कि सुषमा स्वराज ने 3 अगस्त को राज्यसभा में जो अमन और शांति की बात की थी, वह सब व्यर्थ साबित हुआ.

    नाथू ला धरातल से 14000 फीट की ऊंचाई पर है. ट्राइ-जंक्शन पर कटार के आकार वाली चुंबी घाटी है जहां से ठीक सीध में हमारा सिलीगुड़ी वाला गलियारा नजर आता है. काफी तंग होने के कारण इसे चिकेन नेक (मुर्ग की गर्दन) कहा जाता है.

    भूटान डोकलाम को एक विवादित क्षेत्र मानता है और भारत का मानना है कि डोकलाम इलाके में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की सड़क बनाने की कोशिश उसकी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए प्रत्यक्ष खतरा है. भारत का सुरक्षा-तंत्र चिंतित है कि कहीं चीन पूर्वोत्तर के इलाके से भारत का संपर्क काट देने का खेल तो नहीं रच रहा है.

    एक सैनिक ने नाम गुप्त रखने की शर्त पर फ़र्स्टपोस्ट को बताया, 'हमें डोकलाम में चीनियों की घुसपैठ को रोकने का आदेश मिला है लेकिन जब तक हम उन्हें सचमुच रोक पाएं उसके पहले ही उन लोगों ने लालटन चौकी के हमारे कुछ बंकरों को नष्ट कर दिया था.'


    इस सैनिक ने बताया कि जहां दोनों देशों की सेना आमने-सामने डटी है वहां से हमारी सेना का बेस कैंप केवल 15 किलोमीटर दूर है.

    एक फौजी की समझ
    एक सैनिक ने वॉट्सएप संदेशों की पूरी लड़ी दिखाते हुए कहा, 'सिर्फ सीमा पर ही नहीं घर में भी तनाव का माहौल है. हम सीमा पर कायम तनाव से निबटें या घर के तनाव से?'

    मनोबल को ऊंचा बनाए रखने के लिए सेना के अधिकारी ट्राइ-जंक्शन पर तैनात सैनिकों को जोश जगाने वाले संदेश देते हैं. सैनिकों को वे पूरे एहतराम से याद दिलाते हैं कि चाहे जो भी कीमत चुकानी पड़े लेकिन निशाना बनाए रखते हुए मुस्तैदी बरकरार रखनी है.

    एक फौजी ऑफिसर ने कहा कि 'जब भी सैनिक अपनी ड्यूटी से लौटते हैं, वरिष्ठ अधिकारी उनसे भेंट करने का कोई मौका नहीं चूकते. हम लोग सैनिकों से बात करते हैं और उनकी चिंताओं को दूर करते हैं. अगर हमें सैनिकों में क्रोध, निराशा या बेचैनी के लक्षण दिखाई देते हैं तो हम उन्हें ड्यूटी से हटा लेते हैं. दोनों तरफ से जारी मनोवैज्ञानिक युद्ध की स्थिति सबसे बेहतरीन सैनिक को भी अपनी चपेट में ले लेती है. ऐसी तनाव भरी हालत में यह ध्यान रखना बहुत अहम है कि हर सैनिक का मनोबल ऊंचा बना रहे.'

    इस सैन्य अधिकारी ने बताया कि 18 जून को हुई तनातनी के बाद गंगटोक में कायम सेना की एक पूरी कंपनी डोकलाम में तैनात कर दी गई. सेना की एक कंपनी में 3 हजार सैनिक होते हैं. भारत के इस कदम के जवाब में चीन ने भी ऐसा ही किया.


    हिंदुस्तानी फौजियों ने सिक्किम के पहाड़ी इलाके में हैलीपैड बनाए हैं. कुपुक और जुलुक नाम के गांव के बाशिन्दों की मदद से लंबी-लंबी झाड़ियों को हटाकर जगह चौरस कर दी गई है. सैनिक स्थानीय लोगों के साथ चाय-पान करते हुए उन्हें अपना दोस्त बना लेते हैं.

    [​IMG]
    Image Source: फ़र्स्टपोस्ट



    नाथू ला
    कुपुक गांव के निवासी मंगलजीत राय ने फ़र्स्टपोस्ट को बताया कि 'मेरा बेटा सेना में है. इसलिए मुझे पता है कि इन वर्दीधारी लोगों को देशसेवा करते हुए किन कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है. इन सैनिकों के कारण हमारी जिंदगी महफूज है.'

    मंगलजीत राय का कहना है कि जुलुप गांव के तीन नौजवानों ने सैनिकों के प्रति अपना सम्मान जताने के ख्याल से उन्हें कुछ मुर्गे भेंट किए.

    गांव के बड़े-बुजुर्ग कहते हैं कि अगर जंग छिड़ी तो वे सैनिकों के कंधे से कंधा मिलाकर दुश्मन का मुकाबला करेंगे... पूर्व सैनिक केबी राय का कहना था कि जाड़े के दिनों की शुरुआत होने पर गांव वाले गंगटोक के बेसकैंप मे चले जाएंगे.

    लेकिन, जाट रेजिमेंट के फौजी अपनी जगह पर कायम रहेंगे, वे ट्राइ-जंक्शन तक विस्तृत सीमा-क्षेत्र की रखवाली करेंगे. वे इस बात की निगहबानी करेंगे कि उनके आगे का मंजर क्या करवट लेता है.

    http://hindi.news18.com/news/nation...klam-during-india-china-standoff-1073447.html
     
  12. lca-fan

    lca-fan Major SENIOR MEMBER

    Joined:
    Sep 9, 2015
    Messages:
    2,388
    Likes Received:
    4,777
    Country Flag:
    India
    :rofl::rofl::rofl::rofl::rofl::rofl::rofl::rofl::rofl:
     
    snehil aditya and bharathp like this.
  13. bharathp

    bharathp Developers Guild IDF NewBie

    Joined:
    Nov 2, 2016
    Messages:
    746
    Likes Received:
    1,402
    Country Flag:
    India
    पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के छोटे सैनिकों को अपनी गर्दन खूब ऊंची ताननी होगी तब जाकर ये सैनिक उन्हें नजर आएंगे.

    @lca-fan

    my hindi reading skills are weak.. strained to read this, but was well worth it.
     
    lca-fan likes this.
  14. vstol jockey

    vstol jockey Colonel MILITARY STRATEGIST

    Joined:
    Mar 15, 2011
    Messages:
    13,790
    Likes Received:
    15,448
    Country Flag:
    India
    Jaats are not going to spare Chinese for Rezang La. They are going to kill them with bare hands.
     
    bharathp likes this.
  15. lca-fan

    lca-fan Major SENIOR MEMBER

    Joined:
    Sep 9, 2015
    Messages:
    2,388
    Likes Received:
    4,777
    Country Flag:
    India
    Doklam: China speaks in two tongues, ups war cry in media but agrees to retreat 100 m on ground
    Reports from Doklam suggest that China may have agreed to move back its troops 100 metres from the site of standoff.

    [​IMG]
    Prabhash K Dutta
    New Delhi, August 10, 2017 | UPDATED 16:14 IST
    A +A -

    [​IMG]


    HIGHLIGHTS
    • 1
      Reports suggest that PLA is ready to move its troops 100 m back at Doklam.

    • 2
      Indian side is said to be insisting on 250-metre withdrawal.

    • 3
      Doklam standoff continues for nearly two months.
    In the last few days, China has upped its aggressive posturing over Doklam or Doka La (as India officially calls it) standoff. Chinese government officials, state-owned China Daily and Communist Party of China-owned Global Times have increased decibel on rhetoric.

    Chinese deputy director general of Boundary and Ocean Affairs Wang Wenli virtually threatened to invade Kashmir and Uttarakhand where India's boundaries with China coincide with a third country - Pakistan and Nepal.

    China Daily said that the countdown to a military clash with India had begun. It used phrases like "clock is ticking away" and "India will only have itself to blame" for the outcome of the war.






    But, on the ground at Doklam, things seem to be different. Reports from the standoff zone at Doklam suggest that India and China are moving towards a resolution of the ongoing impasse. The two sides are reported to be discussing the repositioning of their troops.

    AT THE GROUND ZERO

    According to reports from Doklam, China has agreed to pull back its troops 100 metres from the standoff point. The Indian side is said to be insisting that China should move back its troops 250 metres from the standoff point at Doklam before Indian troops withdraw.

    Chinese side, on the hand, has said that pulling back 100 metres is be fine and Indian soldiers should go back to their previous position. These reports indicate that both India and China are working for an honourable exit from the Doklam standoff.

    At the same time, China has officially denied that it has agreed to withdraw its troops from the present position, according to a Global Times report, which quoted an anonymous official.

    There are parallel reports that Chinese PLA has stationed around 300-400 troops in tents put up about a kilometre from the Doklam standoff point. India, on the other hand, is reported to have asked its Sukna-based 33 Corps - some 20 km from the site of standoff - to be in the state of full preparedness and wait for orders if reinforcement at Doklam or Doka La is required.

    A PTI report quoted an official source as saying that Indian Army was in a 'no war, no peace' mode against the Chinese military in Doklam.

    THE STANDOFF

    The 'no war, no peace' mode between Indian and Chinese troops is going on for nearly two months. It began on June 1 when the PLA asked the Indian Army to remove two bunkers that the India had set up in 2012 at Lalten area of Doka La - known as Doklam in Bhutan and Donglong in China.

    For many years before setting up the bunkers in 2012, the Indian Army had been patrolling the area. It was done as measure to smoothen the routine border operations in the region and provide security to Bhutan-China border.

    The forward positions of the Indian Army informed the 33 Corps Headquarters at Sukna about the Chinese demand. Meanwhile, on the night of June 6, the Chinese troops came with two bulldozers and demolished the bunkers. They claimed that the area belonged to China and Indian or Bhutanese forces could not patrol there.

    This claim was reportedly laid by the Chinese for the first time and it came four years after Indian Army set up the bunkers at the site. The Chinese troops met with resistance from Indian side. The Indian troops on the ground prevented the Chinese soldiers and machines from doing any further damage or transgressing into the area.

    More Indian troops from brigade headquarters, located 20 km from the site of Doklam standoff, were pushed in on June 8 when a scuffle took place between the two sides. The status quo continues at the ground despite Chinese media and its leaders invariably raising pitch over the Doklam issue.

    The Doklam standoff is, however, the longest military impasse between India and China since 1962. The last one was seen in 2013 when Indian and Chinese armies stood at Daulat Beg Oldie in Ladakh. Chinese troops had entered 30 km into Indian territory till the Depsang Plains claiming it belonged to Chinese province of Xinjiang. Later, they were pushed back.

    http://indiatoday.intoday.in/story/doklam-india-china-war-indan-army-pla/1/1022788.html
     

Share This Page